बुधवार, 16 अप्रैल 2014

मधुमालती छंद

तुम श्वास हो, सुख-गीत हो
मेरी प्रिया, मनमीत हो
दिल में जगा विश्वास हो
रह दूर भी नित पास हो

4 टिप्‍पणियां: