मंगलवार, 8 अप्रैल 2014

मुक्तिका - आप आते

आप आते।
जान लाते।

जिंदगी को,
जगमगाते।

धड़कनों में,
मुस्कुराते।

ख्याल बनकर,
मन लगाते।

प्यास दिल की,
झट बुझाते।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें