शुक्रवार, 22 नवंबर 2013

हाइकु मुक्तक

रात है बाकी / अभी जागो सनम / जरा प्यार दो।
ख्वाब में देखा / हकीकत में वही / उपहार दो।
बातें हैं काफी / बहुत जो बाँटना / तुमसे यहाँ,
आज है मौका / हया को भूलकर / दिल वार दो॥

3 टिप्‍पणियां: