सोमवार, 12 नवंबर 2012

समझ लेना दीपावली है




















जब-जब धर्म की विजय हो,
शुभ-लाभ से भंडार भर जाये,
सुन्दर-सुन्दर रंगोलियाँ सजी हों,
अमावस की रात उजाला हो,
समझ लेना दीपावली है।
दुकानों में उत्सवी रौनक हो,
सबके यहाँ पकवान बने,
ह्रदय-ह्रदय आलोकित हो जाये,
मन-मस्तिष्क व्यथाओं से मुक्त हो,
समझ लेना दीपावली है।
गगन, हर्षध्वनि से गुंजायमान हो,
रोम-रोम आनंद से पुलकित हो,
जात-पात तज दिया जाये,
सब के लिए कुछ न कुछ हो,
समझ लेना दीपावली है।
सर्द वातावरण, गर्माहट से भर जाये,
कीड़े-मकोड़े जल के भस्म हो जाएँ,
घर-घर के किवाड़ खुले हों,
सात्विक उल्लास, पटाखे चला रहा हो,
समझ लेना दीपावली है।
खुशियाँ किसी से भेदभाव न करें,
समाज अपने अस्तित्व को सार्थक करे,
सामूहिकता से नौनिहालों का परिचय हो,
गरीबों के घर भी दिया जगमगाए,
समझ लेना दीपावली है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें