शुक्रवार, 9 नवंबर 2012

माता दुर्गा ये वरदान दे





















तुझसे शक्ति मिले, तेरी भक्ति मिले,
माता दुर्गा ये वरदान दे |

माता हम तेरे बेटे अज्ञानी
तेरी पूजा का ढंग नहीं जानें,
तूने ममता से पाला है हमको
सच्चे दिल से हम इतना ही मानें |
प्यार पाते रहें, सिर झुकाते रहें,
माता दुर्गा ये वरदान दे |

मन में एक तेरा मंदिर बना के
करते हैं निशिदिन तेरी ही पूजा,
माँ तुझे अपने बच्चों के सिवा तो
जग में भाता ही ना कोई दूजा |
पुण्यपथ पे कदम हम बढ़ाते रहें,
माता दुर्गा ये वरदान दे |

तेरे आँचल की छाया है हम पे
महिमा तेरी गाते नहीं अघाते,
तूने इतना दिया हमको भवानी
हाथ आगे ना किसी के फैलाते |
लिखें तेरे भजन, रहें तुझमें मगन,
माता दुर्गा ये वरदान दे |

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें