सोमवार, 26 नवंबर 2012

मदिरा सवैया
















भारत के हम शेर किये नख के बल रक्षित कानन को।
चीर दिया हर बार सदा बढ़ते हुए संकटकारण को।
भाग चले रिपु पीठ दिखा ढकते निजप्राण व आनन को।
हाल सुना अब हैं फिरते सब कालिख माथ लगा वन को॥

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें