रविवार, 25 नवंबर 2012

मदिरा सवैया

















भारत के हम शेर किये नख के बल रक्षित कानन को।
छोड़त हैं कभि नाहिं उसे चढ़ आवहिं आँख दिखावन को।
भागत हैं रिपु पीठ दिखा पहिले निजप्राण बचावन को।
घूमत हैं फिर माँगन खातिर कालिख माथ लगावन को॥

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें