शुक्रवार, 23 नवंबर 2012

मत्तगयन्द सवैया


वो नर नाहिं रहे डरते डरते सबसे नित आप हि हारे।
पामर भाँति चले चरता पशु भी अपमान सदा कर डारे।
मानव जो जिए गौरव से अपनी करनी करते हुए सारे।
जीवन हैं कहते जिसको बसता हिय में निजमान किनारे॥

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें