बुधवार, 3 अक्तूबर 2012

कुछ कुण्डलिया छंद .........

 (१) नारी घर का मान है, नारी पूज्य महान |
नारी का अपमान तू, मत करना इंसान ||
मत करना इंसान, नहीं ये शाप कटेगा,
खुश होगा शैतान, सदा ही नाम रटेगा |
धर माता का रूप, लुटाती ममता भारी,
बढ़े पाप तो खड्ग, उठा लेती है नारी ||
**********************************
(२) नारी जो बेटी बने, देवे कितना स्नेह |
बने बहिन तो बाँट ले, कष्टों की भी देह ||
कष्टों की भी देह, बाँध हाथों पे राखी,
नहीं कहा कुछ गलत, देश-दुनिया है साखी |
करे कोख पर वार, गई मत उसकी मारी,
फूट गये जो भाग, कहाँ घर आए नारी ||

**********************************
(3) धोती मुनिया फर्श को, मुन्ना माँजे प्लेट |
कल का भारत देख लो, ऐसे भरता पेट ||
ऐसे भरता पेट, और ये नेता सारे,
चलते सीना तान, लगा के जमकर नारे |
नहीं तनिक है शर्म, कहाँ है जनता सोती,
इनको अपनी फिक्र, साफ हो कुर्ता-धोती ||

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें